Neend Shayari latest,Raat Shayari Hindi me,AA Raat Bhar

3
484

Neend Shayari latest Collection, Raat Shayari Hindi me, AA Raat Bhar

हेलो फ्रेंड्स, अगर आप Neend Shayari एकदम नए स्टाइल में लेटेस्ट कलेक्शन को सर्च कर रहे हैं तो आप एकदम सही जगह पर आ गए हैं, आपको कहीं पर भी अपना समय बर्बाद करने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी, एकदम अच्छा कलेक्शन देखने को यहाँ पर मिल जाएगा।

Neend Shayari latest

dar lagta hai mujhe raat ke us pahar se

utarti hain jb dil ke aangan me uski yaade

डर लगता है मुझे रात के उस पहर से 

उतरती हैं जब दिल के आँगन में उसकी यादें 

 

is gehri raat me unki yaad ka jhonka fir aa gaya

bahot khushnaseeb hain hm ki unse milne ka mauka fir aa gaya

इस गहरी रात में उसकी याद का झोंका फिर आ गया

बहोत खुशनसीब हैं हम की उनसे मिलने का मौक़ा फिर आ गया

aa raat bhr

ek raat ko lajawaab dekhne ke liye

main jaagti hoon tera khwaab dekhne ke liye

एक रात को लाजवाब देखने के लिए

मैं जागती हूँ तेरा ख्वाब देखने के लिए

यह भी पढ़े – Shayari on Beauty, Tareef In English

इसको ज़रूर देखना – वजन घटाने के लिए बस ये करो 

achanak se khul jaati hai

raat me meri aankhe

km se km khwaabo me to

yoon itraaya na karo

अचानक से खुल जाती हैं

रात में मेरी आँखे

कम से कम ख्वाबों में तो

यूं इतराया ना करो

Neend Shayari latest

neend ki kyaa khata jo aankho se gaayabb hai

kasoor tumhaare chehre kaa hai

jisne kiyaa mera dil ghayal hai

नींद की क्या खता जो आँखों से गायब है

कसूर तुम्हारे चेहरे का है

जिसने किया मेरा दिल घायल है

 

sote hue bhi gir jaate hain meri aankh se aansoo

sapne me jb lagaa ki haath chod diyaa tumne

सोते हुए भी गिर जाते हैं मेरी आँख से आंसू

सपने में भी जब लगा की हाथ छोड़ दिया तुमने

neend shayari

naa karwate badalne ki chinta

naa bechaini raaton mein

kitni chain ki neend sote the hm

mohabbat hone se pahle

ना करवाते बदलने की चिंता

ना बेचैनी रातों में

कितनी चैन की नींद सोते थे हम

मोहब्बत होने से पहले

 

aadhi raat ko neend jb se khul gai hai meri

dukh rahi hain tabhi se lagataar aankhe meri

naa jaane kaun palkon par chalta raha raat bhar

आधी रात को नींद जब से खुल गई है मेरी

दुःख रही हैं तभी से लगातार आँखे मेरी

ना जाने कौन पलकों पर चलता रहा रात भर

neend shayari

socha ki aaj to ek mast khwaab dekhenge aapke saath hm

majaal hai jo aankho me halki si bhi neend aai ho

सोचा की आज तो एक मस्त ख्वाब देखेंगे आपके साथ हम

मज़ाल है जो आँखों में हलकी सी भी नींद आई हो

 

ishq kiyaa hai hmne ya kasoor kiya koi

ab to aankho ne bhi neend ko cheen liya hmse

इश्क़ किया है हमने या कसूर किया कोई

अब तो आँखों ने भी नींद को छीन लिया हमसे

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here